ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र

ग्रंथालय संग्रह

आघारकर अनुसंधान संस्थान (ARI) के ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र विज्ञान में शोधकर्ताओ के लिए महत्वपूर्ण संदर्भ और सूचना केन्द्रों में से एक हैं। यह मुख्य रूप से अपने अनुसंधान के वैज्ञानिकों और छात्रो के उपयोग के लिए हैं। विभिन्न कॉलेज और विश्वविध्यालयों के कर्मचारी भी यहाँ नियमित रूप से अनुसंधान के लिए सलाह लेते हैं। ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र की शुरुआत प्रोफेसर श. पु. आघारकरजी द्वारा दान के रूप में अच्छे पुस्तकों के संग्रहों से हुई थीं जिसमें दुर्लभ खण्ड, पत्रिकाएँ, इत्यादि जो की विशेष रूप से जर्मन भाषा में हैं। उसी समय से ग्रंथ, पत्रिकाओं और अन्य पठन सामग्री लगातार संग्रहित की जा रही हैं। वर्तमान में, यह एक अत्याधुनिक सूचना तंत्रज्ञान, ईलेक्ट्रोनिक मुद्रण संसाधनों से परिपूर्ण ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र हैं।

ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र का जैविक सार के खंड यह एक महत्वपूर्ण प्रभाग हैं। इसमें 2000 साल तक के खंड उपलब्ध हैं। भारतीय पैटंट की जानकारी सीडी–रोम के स्वरूप में उपलब्ध हैं जैसे Eksawa- ए और Eksawa- बी। ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र नवीनतम वैज्ञानिक साहित्य एलेक्ट्रोनिक के स्वरूप में उपलब्ध किया जाता हैं, उदाहरणार्थ वेब ऑफ साइन्स, सीएबी डेटाबेस, इत्यादि। ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र में नियमित रूप से देश और विदेश से आने वाली पत्रिकाएँ उपलब्ध किए जाते हैं। पुस्तकालय का संग्रह 27,000 से अधिक हैं। ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र में संस्था ने प्रकाशन, शोध निबंध, वार्षिक प्रतिवेदना का जतन किया हैं। ग्रंथालय एवं सूचना केंद्र में संस्थान के प्रकाशित हुए लेख और ग्रंथों का अंकीकरण का काम शुरू हैं। ग्रंथालय विभिन्न प्रकार के डेटाबेस विकसित करने का काम भी करती हैं।