बागवानी और फील्ड बॉटनी

सर्टिफिके कोर्स इन होम गार्डेनिंग

हर साल, बागवानी के प्रति उत्साही के लोगों के लिए ‘सर्टिफिकेट कोर्स इन होम गार्डेनिंग ‘ का आयोजन किया जाता है। इसमे पाठ्यक्रम सामग्री व्याख्यान, प्रदर्शनों और आउटडोर दौरे शामिल है। आघारकर संस्था के विशेषज्ञों के अलावा, बाहरी विशेषज्ञ भी विशेष व्याख्यान देने हेतु और प्रदर्शनों के लिए आमंत्रित किया जाता है। यह पाठ्यक्रम फूलों की खेती, सब्ज़ियों की खेती, फल उत्पन्न करने की कला आदि में विभाजित है। गुलाब, लॉन, औषधीय पौधे, कैक्टस और सरस, ऑर्किड, बोतल बगीचा, पर्दे, बोन्साई और विशेष पुष्प व्यवस्था एकेबना जैसे विभिन्न तकनीकों पर विशेष व्याख्यान में भाग लेने वालों के पसंदीदा रहे हैं। आयोजित यात्राओं मे नर्सरी, बंगला बगीचा, छत उद्यान और उच्च तकनीक लेकर पॉलीहाउस तकनीक के लिए आयोजित कि जा रही हैं। दाखिले पहले आने पर पहले इस आधार दिये जाते है। भाग लेने वालो को पाठ्यक्रम सामग्री प्रदान की जाती है।

अवधि: छह माह, हर गुरुवार शाम 3.30-5.30शर्त: 10 वी पास, अंग्रेजीकेतकनीकी शब्दोंकी समझकॉन्टक्ट पर्सन: डॉ. अनुराधा उपाध्ये, किरण पाटिल
सर्टिफिकेटे कोर्से इन फील्ड बॉटनीएमएसीएस और निसर्गसेवक की सहयोगी परियोजना
हर साल, ‘सर्टिफिकेटे कोर्से इन फील्ड बॉटनी’ प्रकृति के प्रति उत्साही लोगो के लिए आयोजितकिया जाता है। इसमे पाठ्यक्रम सामग्री, व्याख्यान, प्रदर्शनों और आउटडोर दौरे शामिल है। आघारकर संस्था के विशेषज्ञों के अलावा, बाहरी विशेषज्ञों भी विशेष व्याख्यान देने और प्रदर्शनों के लिए आमंत्रित किया जाता है। पाठ्यक्रमविशेष रूप सेपौधोंफूल पौधे,उनकी विविधता,निवास औरभूमिकाओंके वर्गीकरणके विज्ञान के बारे मेंलोगों को जागरूकबनानेके लिए है। पादपआकृति विज्ञान, वर्गीकरण,पारिस्थितिकीय आदिइस पाठ्यक्रम में प्रमुख शामिलविषयोंमे से हैं। प्रदर्शन, प्रैक्टिकल औरपुणेके आसपास के विभिन्नस्थानोंका पर्यटन इसपाठ्यक्रम के एकभाग के रूप मेंआयोजित कियाजाता है।दाखिले पहले आने पर पहले इस आधार दिये जाते है। भाग लेने वालो को पाठ्यक्रम सामग्री प्रदान की जाती है।
अवधि: ढाई माह, हर शुक्रवार-शनिवार शाम 6.15-8.30,रविवार आधा दिवस(सुबह 7.30-10) क्षेत्र भेटशर्त: 10 वी पास, अंग्रेजीकेतकनीकी शब्दोंकी समझकॉन्टक्ट पर्सन: डॉ. अनुराधा उपाध्ये, डॉ मंदार दातार